2 अप्रैल 2011 को, टीम इंडिया ने अपना दूसरा एकदिवसीय विश्व कप जीता। 28 साल के लंबे इंतजार के बाद भारत ने यह विश्व कप जीता। विश्व कप फाइनल मैच श्रीलंका और भारत के बीच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में हुआ। इस मैच में श्रीलंकाई टीम ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी की। उन्होंने कुल 274 रन बनाये और भारत को 275 रनों का लक्ष्य दिया।

पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने जल्द ही अपने पहले दो विकेट खो दिए। लेकिन इसके बाद उन्होंने शानदार बल्लेबाजी की। टीम इंडिया ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराया।

World Cup Final 2011 MS Dhoni and Gautam Gambhir

इस मैच में टीम इंडिया को चैंपियन बनाने में गौतम गंभीर और एमएस धोनी की अहम भूमिका रही। उन्होंने दोनों अर्धशतक लगाए और 97 और 91 रन की पारी खेली। दोनों ने टीम को समान रूप से समर्थन दिया। लेकिन, इस बात पर बहुत चर्चा हुई है कि एमएस धोनी और गौतम गंभीर में से कौन फाइनल का असली हीरो था।

आइए हम उस मैच में दोनों की पारियों को विस्तार से देखते हैं।

गौतम गंभीर की पारी

गौतम गंभीर ने 79.51 की स्ट्राइक रेट से 122 रनों पर 97 रनों की पारी खेली। जब वह बल्लेबाजी करने आए तो टीम इंडिया ने वीरेंद्र सहवाग का विकेट गंवा दिया था और जल्द ही सचिन भी आउट हो गए। तब गंभीर के ऊपर रन बनाने की बड़ी जिम्मेदारी थी। उस समय बहुत कठिन स्थिति थी क्योंकि दूसरे छोर पर विराट कोहली थे, जिन्हें उस समय ज्यादा अनुभव नहीं था।

लिहाजा, गंभीर को सारी जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेनी पड़ी। उन्होंने विराट कोहली के साथ 83 रनों की एक महत्वपूर्ण साझेदारी की और टीम इंडिया को अच्छी स्थिति में पहुंचाया।

एमएस धोनी की पारी

दूसरी ओर, विराट कोहली के आउट होने के बाद युवराज सिंह बल्लेबाजी करने आते। लेकिन धोनी ने युवराज की जगह 4 नंबर पर खुद को प्रमोट करने का एक बुरा फैसला लिया। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पहले खेले गए सभी मैचों में धोनी पूरी तरह से आउट ऑफ फॉर्म थे। एमएस धोनी बल्लेबाजी करने आये और 115.19 के स्ट्राइक रेट से सिर्फ 79 बॉल में 91 रनों की पारी खेली।

हालांकि, जब वह बल्लेबाजी करने आए तो टीम इंडिया की बल्लेबाजी अच्छी स्थिति में थी। उन्हें बहुत कुछ करने की जरूरत नहीं थी, क्योंकिपूरे विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करने वाले युवराज सिंह को बल्लेबाजी करनी बाकी थी।

दोस्तों, आपके अनुसार धोनी और गंभीर में से विश्व कप 2011 के फाइनल का असली हीरो कौन था? हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here